धारा 410 आईपीसी (IPC Section 410 in Hindi) - चुराई हुई संपत्ति



धारा 410 का विवरण

भारतीय दंड संहिता की धारा 410 के अनुसार, वह संपत्ति, जिसका कब्जा चोरी द्वारा, या उद्दापन द्वारा या लूट द्वारा अंतरित किया गया है, और वह संपत्ति, जिसका आपराधिक दुर्विनियोग किया गया है, या जिसके विषय में आपराधिक न्यासभंग 2।।। किया गया है, चुराई हुई संपत्ति कहलाती है, 3[चाहे वह अंतरण या वह दुर्विनियोग या न्यासभंग 4[भारत] के भीतर किया गया हो या बाहर] । किंतु यदि ऐसी संपत्ति तत्पश्चात् ऐसे व्यक्ति के कब्जे में पहुंच जाती है, जो उसके कब्जे के लिए वैध रूप से हकदार है, तो वह चुराई हुई संपत्ति नहीं रह जाती ।




आईपीसी धारा 410 शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय आईपीसी धारा