आईपीसी की धारा 453 | IPC Section 453 in Hindi (Dhara 453) - सजा और जमानत

धारा 453 आईपीसी (IPC Section 453 in Hindi) - प्रच्छन्न गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन के लिए दंड


विवरण

जो कोई प्रच्छन्न गॄह-अतिचार या गॄह-भेदन करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।
1 1955 के अधिनियम सं0 26 की धारा 117 और अनुसूची द्वारा (1-1-1956 से) आजीवन निर्वासन के स्थान पर प्रतिस्थापित । भारतीय दंड संहिता, 1860 85


आईपीसी धारा 453 शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय आईपीसी धारा