आईपीसी की धारा 480 | IPC Section 480 in Hindi (Dhara 480) - सजा और जमानत
वकील से
बात करें

धारा 480 आईपीसी (IPC Section 480 in Hindi) - मिथ्या व्यापार चिह्न का प्रयोग किया जाना


विवरण

व्यापार और पण्य चिह्न अधिनियम, 1958 (1958 का 43) की धारा 135 और अनुसूची द्वारा (25-11-1959 से) निरसित ।
1 1955 के अधिनियम सं0 26 की धारा 117 और अनुसूची द्वारा (1-1-1956 से) आजीवन निर्वासन के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
2 2000 के अधिनियम सं0 21 की धारा 91 और पहली अनुसूची द्वारा (17-10-2000 से) किसी दस्तावेज के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
3 1895 के अधिनियम सं0 3 की धारा 4 द्वारा अंतःस्थापित ।
4 2000 के अधिनियम सं0 21 की धारा 91 और पहली अनुसूची द्वारा (17-10-2000 से) पुस्तक, कागज, लेखा के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
5 1889 के अधिनियम सं0 4 की धारा 3 द्वारा मूल शीर्ष और धारा 478 से 489 के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
6 1958 के अधिनियम सं0 43 की धारा 135 और अनुसूची द्वारा (25-11-1959 से) व्यापार शब्द का लोप किया गया । भारतीय दंड संहिता, 1860 90


आईपीसी धारा 480 शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय आईपीसी धारा