धारा 466 आईपीसी (IPC Section 466 in Hindi) - न्यायालय के अभिलेख की या लोक रजिस्टर आदि की कूटरचना



धारा 466 का विवरण

भारतीय दंड संहिता की धारा 466 के अनुसार, जो कोई ऐसे दस्तावेज की या ऐसे इलैक्ट्रानिक अभिलेख कीट जिसका कि किसी न्यायालय का या न्यायालय में अभिलेख या कार्यवाही होना, या जन्म, वपतिस्मा, विवाह या अन्त्येष्टि का रजिस्टर, या लोक सेवक द्वारा लोक सेवक के नाते रखा गया रजिस्टर होना तात्पर्यित हो, अथवा किसी प्रमाणपत्र की या ऐसी दस्तावेज की जिसके बारे में यह तात्पर्यित हो कि वह किसी लोक सेवक द्वारा उसकी पदीय हैसियत में रची गई है, या जो किसी वाद को संस्थित करने या वाद में प्रतिरक्षा करने का, उसमें कोई कार्यवाही करने का, या दावा संस्वीकॄत कर लेने का,
1 2000 के अधिनियम सं0 21 की धारा 91 और पहली अनुसूसूची द्वारा (17-10-2000 से) अंतःस्थापित ।
2 2000 के अधिनियम सं0 21 की धारा 91 और पहली अनुसूची द्वारा (17-10-2000 से) कतिपय शब्दों के स्थान पर प्रतिस्थापित । भारतीय दंड संहिता, 1860 88
1[स्पष्टीकरण--इस धारा के प्रयोजनों के लिए, रजिस्टर के अंतर्गत सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 2 की उपधारा (1) के खंड (द) में परिभाषित इलैक्ट्रानिक रूप में रखी गई कोई सूची, डाटा या किसी प्रविष्टि का अभिलेख भी है ।


Offence : एक लोक सेवक द्वारा रखे गए न्याय न्यायालय या जन्म पंजीयक आदि के रिकॉर्ड का जालसाजी


Punishment : 7 साल + जुर्माना


Cognizance : गैर - संज्ञेय


Bail : गैर जमानतीय


Triable : प्रथम श्रेणी का मजिस्ट्रेट





आईपीसी धारा 466 शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

IPC धारा 466 पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न


आई. पी. सी. की धारा 466 के तहत क्या अपराध है?

आई. पी. सी. धारा 466 अपराध : एक लोक सेवक द्वारा रखे गए न्याय न्यायालय या जन्म पंजीयक आदि के रिकॉर्ड का जालसाजी


आई. पी. सी. की धारा 466 के मामले की सजा क्या है?

आई. पी. सी. की धारा 466 के मामले में 7 साल + जुर्माना का प्रावधान है।


आई. पी. सी. की धारा 466 संज्ञेय अपराध है या गैर - संज्ञेय अपराध?

आई. पी. सी. की धारा 466 गैर - संज्ञेय है।


आई. पी. सी. की धारा 466 के अपराध के लिए अपने मामले को कैसे दर्ज करें?

आई. पी. सी. की धारा 466 के मामले में बचाव के लिए और अपने आसपास के सबसे अच्छे आपराधिक वकीलों की जानकारी करने के लिए LawRato का उपयोग करें।


आई. पी. सी. की धारा 466 जमानती अपराध है या गैर - जमानती अपराध?

आई. पी. सी. की धारा 466 गैर जमानतीय है।


आई. पी. सी. की धारा 466 के मामले को किस न्यायालय में पेश किया जा सकता है?

आई. पी. सी. की धारा 466 के मामले को कोर्ट प्रथम श्रेणी का मजिस्ट्रेट में पेश किया जा सकता है।


लोकप्रिय आईपीसी धारा