आईपीसी की धारा 2925क | IPC Section 2925क in Hindi (Dhara 2925क) - सजा और जमानत

धारा 2925क आईपीसी (IPC Section 2925क in Hindi) - विमर्शित और विद्वेषपूर्ण कार्य जो किसी वर्ग के धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करके उसकी धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आशय से किए गए हों


विवरण

जो कोई 6[भारत के नागरिकों के] किसी वर्ग की धार्मिक भावनओं को आहत
3 1925 के अधिनियम सं0 8 की धारा 2 द्वारा मूल धारा के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
4 1895 के अधिनियम सं0 3 की धारा द्वारा मूल धारा के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
1 1870 के अधिनियम सं0 27 की धारा 10 द्वारा अंतःस्थापित ।
2 भारत शासन (भारतीय विधि अनुकूलन) आदेश, 1937 द्वारा सरकार द्वारा अप्राधिकॄत के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
3 1951 के अधिनियम सं0 3 की धारा 3 और अनुसूची द्वारा केन्दीय सरकार या भाग क राज्य या भाग ख् राज्य की सरकार द्वारा चालू की गई लाटरी के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
4 विधि अनुकूलन आदेश, 1950 द्वारा प्रादेशिक के स्थान पर प्रतिस्थापित ।
5 1927 के अधिनियम सं0 25 की धारा 2 द्वारा अंतःस्थापित । भारतीय दंड संहिता, 1860 56
करने के विमर्शित और विद्वेषपूर्ण आशय से उस वर्ग के धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान 7[उच्चारित या लिखित शब्दों द्वारा या संकेतों द्वारा या दृश्यरूपणों द्वारा या अन्यथा] करेगा या करने का प्रयत्न करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि 8[तीन वर्ष] तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से दण्डित किया जाएगा


आईपीसी धारा 2925क शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय आईपीसी धारा