आईपीसी की धारा 271 | IPC Section 271 in Hindi (Dhara 271) - सजा और जमानत

धारा 271 आईपीसी (IPC Section 271 in Hindi) - करन्तीन के नियम की अवज्ञा


विवरण

जो कोई किसी जलयान को करन्तीन की स्थिति में रखे जाने के, या करन्तीन की स्थिति वाले जलयानों का किनारे से या अन्य जलयानों से समागम विनियमित करने के, या ऐसे स्थानों के, जहां कोई संक्रामक रोग
1 1953 के अधिनियम सं0 42 की धारा 4 और अनुसूची 3 द्वारा और शब्द का लोप किया गया । भारतीय दंड संहिता, 1860 52
फैल रहा हो और अन्य स्थानों के बीच समागम विनियमित करने के लिए 1[।।। 2।।। 3।।। सरकार द्वारा] बनाए गए और प्रख्यापित किसी नियम को जानते हुए अवज्ञा करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा ।


आईपीसी धारा 271 शुल्कों के लिए सर्व अनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय आईपीसी धारा