धारा 28क - हिन्दू विवाह अधिनियम

धारा 28क हिन्दू विवाह अधिनियम - डिक्रियों और आदेशों का प्रवर्तन

October 11,2018


विवरण

इस अधिनियम के अधीन किसी कार्यवाही में न्यायालय द्वारा दी गई सभी डिक्रियों और आदेशों का प्रवर्तन उसी प्रकार किया जाएगा जिस प्रकार उस न्यायालय द्वारा अपनी आरंभिक सिविल अधिकारिता के प्रयोग में दी गई डिक्रियों और आदेशों का तत्समय प्रवर्तन किया जाता है ।


हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 से अधिक पढ़ने के लिए, यहां क्लिक करें


हिन्दू विवाह अधिनियम धारा 28क के लिए सर्वअनुभवी वकील खोजें

लोकप्रिय हिन्दू विवाह अधिनियम धाराएं