धारा 27 - हिन्दू विवाह अधिनियम
वकील से
बात करें

धारा 27 हिन्दू विवाह अधिनियम - सम्पत्ति का व्ययन

October 11,2018


विवरण

इस अधिनियम के अधीन होने वाली किसी भी कार्यवाही में, न्यायालय ऐसी सम्पत्ति के बारे में, जो विवाह के अवसर पर या उनके आसपास उपहार में दी गई हो और संयुक्त पति और पत्नी दोनों की हो, डिक्री में ऐसे उपबन्ध कर सकेगा जिन्हें वह न्यायसंगत और उचित समझे ।


हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 से अधिक पढ़ने के लिए, यहां क्लिक करें


हिन्दू विवाह अधिनियम धारा 27 के लिए सर्वअनुभवी वकील खोजें