धारा 17 - हिन्दू विवाह अधिनियम
वकील से
बात करें

धारा 17 हिन्दू विवाह अधिनियम - द्विविवाह के लिये दण्ड

October 11,2018


विवरण

यदि इस अधिनियम के प्रारम्भ के पश्चात् दो हिन्दुओं के बीच अनुष्ठित किसी विवाह की तारीख में ऐसे विवाह में के किसी पक्षकार का पति या पत्नी जीवित था या थी तो ऐसा कोई विवाह शून्य होगा और भारतीय दण्ड संहिता (1860 का अधिनियम 45) की धारा 494 और 495 के उपबन्ध तदनुकूल लागू होंगे।


हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 से अधिक पढ़ने के लिए, यहां क्लिक करें


हिन्दू विवाह अधिनियम धारा 17 के लिए सर्वअनुभवी वकील खोजें