क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट कैसे बनाये


March 21, 2020
एडवोकेट चिकिशा मोहंती द्वारा



क्रय – अभिक्रय एक प्रकार का अनुबन्ध है जिसका विकास यू. के. में हुआ। आजकल चीन भारत, जापान, आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में इसका प्रचलन है। इसको बन्द – लीजिंग भी कहते हैं। जब कोई क्रेता किसी सम्पत्ति का मूल्य एकमुश्त देने में असमर्थ होता है किन्तु उस मूल्य का कोई छोटा भाग जमा करने की क्षमता रखता है उस स्थिति में क्रय – अभिक्रय अनुबंध का उपयोग करके क्रेता उस सम्पत्ति (या माल) को मासिक किराया के बदले उधार ले सकता है। कनाडा और यू. एस. ए. में इसे ‘किस्त योजना’ कहते हैं।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें
 

क्रय – अभिक्रय – अनुबंध की जरूरत क्यों होती है?

क्रय – अभिक्रय – अनुबंध (हायर परचेज़ – अनुबंध) उपनिधान (वेलमेंट) की श्रेणी का अनुबंध माना गया है। क्रय – अभिक्रय के नियमन के लिए कोई स्वतंत्र विधि नहीं है। अत: अनुबंध की शर्तों के अलावा संविदा विधि के ही नियम उस पर लागू होते हें। बंबई हाईकोर्ट के मतानुसार क्रय - अभिक्रय की प्रथा का उदय इंग्लैंड में हुआ और वहीं से इस प्रकार के अनुबंध भारत में भी प्रचलित हुए।

क्रय – अभिक्रय का विधिगत अर्थ है – किसी वस्तु का मालिक अपनी वस्तु को एक निश्चित किराए पर उठाने के साथ-साथ यह भी वचन देता है कि उक्त वस्तु को किराए पर लेनेवाले व्यक्ति द्वारा अनुबंध की शर्तें पूरी की जाने पर मालिक उस वस्तु को बेच देगा। इसी से मिलता जुलता क्रय - विक्रय का एक तरीका और भी है जिसमें क्रेता वस्तु का संपूर्ण मूल्य वस्तुविक्रय के समय अदा न करके किस्तों में अदा करने की सुविधा प्राप्त कर लेता है। इसे हम विक्रय करने का अनुबंध कह सकते हैं।
 

क्रय – अभिक्रय एग्रीमेंट की विशेषताएं

  1. इसमें खरीदार तुरंत सामानों को अपने कब्जे में ले लेता है, और किश्त में माल की कीमत चुकाने के लिए सहमत हो जाता है।

  2. प्रारंभ में, अवक्रेता (वह व्यक्ति जो भाड़े के तहत सामान लेता है), किश्तों में पूरी कीमत देने के बाद केवल सामान का उपयोग करने के अधिकार प्राप्त करता है (कानूनी शब्दावली में, अवक्रेता को केवल माल का कब्जा मिलता है)। अंत में माल को अवक्रेता को स्थानांतरित किया जाता है। कानूनी शब्दावली में इसे, स्वामित्व का हस्तांतरण कहते हैं।

  3. माल की पूरी कीमत का भुगतान करने के बाद ही, क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट के तहत अवक्रेता माल का मालिक बन जाता है।

  4. इसके अलावा, विक्रेता को सामान को हिरन द्वारा डिफ़ॉल्ट के मामले में वापस करने का भी अधिकार है।

  5. सबसे उल्लेखनीय, विक्रेता के पास सामान वापस करने का विकल्प होता है। इस मामले में, उसे उसके बाद गिरने वाली किश्तों का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
     

क्रय - अविक्रय एग्रीमेंट का प्रारूप

यह क्रय - अविक्रय एग्रीमेंट का विलेख दिनांक ...............माह..........सन...........को श्री................................आत्मज....................................आयु.....................बर्ष.................निवासी..........................(जिसे आगे "अवक्रयदाता" कहा गया है) तथा .......................आत्मज..................आयु......................बर्ष....................निवासी.....................(जिसे आगे "अवक्रेता" कहा गया है) के बीच (ग्राम / शहर) में निष्पादित किया गया।

चूँकि उक्त अवक्रयदाता को अपनी निजी स्वामित्व की वस्तु / संपत्ति ........ होकर वह उसे बेचने को इच्छुक है, और उक्त अवक्रेता उसे खरीदने के लिए सहमत है।
अतएव अब यह विलेख साक्ष्यांकित करता है कि उक्त वस्तु जिसका मूल्य .......है, को अवक्रेता के रुपये ........की ..........द्वारा मासिक किश्तों में मूल्य की अदायगी कर क्रय करने का अवक्रयदाता से करार किया गया है।

अवक्रयदाता एवं अवक्रेता के बीच करार की निम्नलिखित शर्तें निर्धारित की गयी हैं-

  1. उक्त अवक्रेता हर माह की पहली तारीख को ............. रुपये अवक्रयदाता के पास जमा कराता रहेगा।

  2. अवक्रयदाता वस्तु .............. को जब तक उसकी पूरी कीमत की अदायगी न हो जाये, अच्छी हालत में रखेगा।

  3. किसी किश्त की अदायगी में चूक हो जाने पर अवक्रयदाता को रुपये............ प्रति सैकड़ा प्रतिमाह की दर से ब्याज प्राप्त करने एवं उक्त करार को विखंडित करने का पूरा अधिकार होगा।

  4. जब तक वस्तु......की पूरी कीमत या सभी किश्तों की अदायगी न हो जाये,तब तक उस पर अवक्रयदाता का स्वामित्व बना रहेगा , एवं सभी किश्तों की अदायगी हो जाने पर अवक्रेता उसका स्वामी बन जायेगा।

  5. अवक्रेता उक्त वस्तु के लिए निर्धारित सभी प्रकार के करों का भुगतान कर रशीद प्राप्त करेगा, एवं इनमें चूक होने पर किसी भी प्रकार की हानि के लिए अवक्रेता का दायित्व रहेगा।

  6. उक्त वस्तु.........का बीमा कंपनी में, बीमा करा रखा है, जिसकी बार्षिक किश्त ...............रुपये है, जिसे भुगतान करने का दायित्व अवक्रेता पर होगा।

  7. जब तक वस्तु का मूल्य अर्थात सारी किश्तों की अदायगी नहीं हो जाती, अवक्रेता उसका अन्यन्य किसी भी प्रकार का अंतरण करने का अधिकारी नहीं होगा।

  8. अवक्रयदाता को कभी भी किसी भी समय बिना किसी पूर्व सुचना के वस्तु........का निरीक्षण करने का पूरा अधिकार होगा।

  9. वस्तु............में किसी भी प्रकार की क्षति के लिए अवक्रेता उसके लिए पूर्णरूपेण दायित्वाधीन होगा।
     

उपर्युक्त के साक्ष्य स्वरूप उक्त .................(अवक्रयदाता) तथा............(अवक्रेता) ने निम्नांकित      साक्षियों के समक्ष दिनांक ................को हस्ताक्षर कर दिए हैं।
साक्षीगण

1

2

हस्ताक्षर
(अवक्रयदाता)
 
हस्ताक्षर
(अवक्रेता)

प्रलेखन के वकीलों से बात करें
 

क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट के पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज

  1. क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट का ड्राफ्ट / शीर्षक विलेख / वाहन डीड

  2. संपत्ति पर अधिकार और किराएदारी कोर के रिकॉर्ड्स

  3. खाता प्रमाणपत्र और अर्क

  4. भूमि मालिक और बिल्डर के बीच संयुक्त विकास समझौते, जी. पी. ए., और वितरण / अनुपूरक समझौते

  5. पावर ऑफ़ अटार्नी यदि कोई हो

  6. सांविधिक प्राधिकरण द्वारा मंजूर बिल्डिंग योजना

  7. बिल्डर / को - ओपरेटिव सोसायटी / हाउसिंग बोर्ड / बी. डी. ए. से आबंटन पत्र।

  8. संपत्ति पर कोई ऋण (वर्तमान या अतीत) / बैंक के साथ मूल संपत्ति के दस्तावेज

  9. विक्रेता के साथ बिक्री के समझौते

  10. भूमि मालिक के सभी शीर्षक दस्तावेज

  11. सभी पंजीकृत पिछले अनुबंधों की एक प्रति (पुनर्विक्रय संपत्ति के मामले में)

  12. अपार्टमेंट एसोसिएशन से एन. ओ. सी. (पुनर्विक्रय संपत्ति के मामले में)
     

क्रय अभिक्रय एग्रीमेंट को बनाने की विधि

एक क्रय अभिक्रय एग्रीमेंट बनाने के लिए आपको उपभोक्ता फोरम से संपर्क करके उचित उपाय की मांग की जा सकती है, इस एग्रीमेंट को सही रूप से बनाने के लिए निम्न चरणों का पालन करना अनिवार्य होता है।

पहला चरण
सही अदालत में अनुमोदन।
क्रय अभिक्रय एग्रीमेंट को बनाने के लिए प्रादेशिक और विशेष अधिकार क्षेत्र के साथ उपयुक्त न्यायालय में अनुमोदन करना चाहिए। अधिकतर क्रय अभिक्रय एग्रीमेंट के मध्यस्थता खंड के साथ -साथ मध्यस्थता की सीट का भी वर्णन होता है। या फिर विवाद के लिए न्यायालय में जाया जाता है।

दूसरा चरण
उपभोक्ता शिकायत का मसौदा तैयार करना।
इस प्रयोजन के लिए, किसी एक कुशल वकील से परामर्श करना चाहिए क्योंकि यह अपने आप से मसौदा तैयार करने की जगह अधिक फायदेमंद साबित होगा। यहां कुछ प्रमुख बिंदु दिए गए हैं, जो आपके ड्राफ्ट शिकायत में अनिवार्य रूप से होने चाहिए।

  1. परिचय- 2 - 3 लाइनों में खुद का परिचय होना चाहिए।

  2. ख़रीदा गया सामान - खरीद की तारीख, मेमो नंबर, ऐसे अन्य विवरणों के साथ लेन - देन का विस्तार।

  3. दोष - इस शिकायत में माल की खराबी के बारे में।

  4. सुधार - न्यायालय के पास जाने से पहले मामले का निवारण करने के लिए शिकायतकर्ता द्वारा उठाए गए कदमों का वर्णन करना चाहिए। इसके लिए एक उदाहरण यह हो सकता है, कि कई बार वित्त कंपनी से संपर्क करना, उसे फोन और पत्र आदि के दोषों के बारे में बताना।

  5. साक्ष्य - सबूत, क्रय - अभिक्रय समझौते के ज्ञापन रसीद का उल्लेख, आंख देखी गवाह, जो इस तरह की खरीद और दोषों का समर्थन करता है।

  6. अधिकार - क्षेत्र - यह वह जगह है, जहाँ एक वकील का काम आता है। न्यायालय के पास कोई क्षेत्राधिकार नहीं होने की शिकायत के परिणामस्वरूप मामले को खारिज कर दिया जाएगा।

  7. राहत का दावा करना - मुआवजे के रूप में दावा करने वाली सभी राहतें इस हिस्से के तहत उल्लिखित होनी चाहिए। इसका एक उदाहरण यह हो सकता है, कि क्रय - अभिक्रय समझौते के तहत खरीदा गया टी. वी. अनपैकिंग के समय से काम नहीं कर रहा था। राहत का दावा टी. वी. की कीमत का होना चाहिए। इसके साथ ही, न्यायालय में मामले को राहत के रूप में लड़ते हुए मुकदमेबाजी के खर्च के लिए हमेशा दावा करना चाहिए।
     

तीसरा चरण
न्यायालय शुल्क का भुगतान।
यदि कोई जिला फोरम से संपर्क कर रहा है, तो न्यायालय शुल्क 1 लाख रुपये तक के मामले में, 100 रुपये और 1 लाख से 5 लाख तक के मामले में 200, रुपये 5 से 10 लाख तक के मामले में, 400 रुपये और 10 से  20 लाख तक के मामले में 500 रुपये है। जब मामला 20 लाख से ऊपर का होता है, तब राज्य आयोग के पास इसका अधिकार होता है, और 20 लाख से 50 लाख तक के मामलों में 2000 रुपये और 50 लाख से 1 करोड़ तक के मामलों में यह 4000 रुपये तक होती है, और 1 करोड़ से ऊपर के मामलों को राष्ट्रीय उपभोक्ता फोरम द्वारा निपटाया जाता है, और ऐसे मामलों में न्यायालय शुल्क 5000 रुपये है।

चौथा चरण
न्यायालय में एक पक्ष अपने दम पर मामले पर बहस कर सकता है, या वह व्यक्ति कोई वकील को नियुक्त कर सकता है। यदि कोई अपने दम पर बहस कर रहा है, तो उसके द्वारा यहां वर्णित कुछ बिंदुओं को ध्यान में रखा जाना चाहिए-

ड्रेस कोड  व्यक्तिगत बहस आवश्यक रूप से वकील की पोशाक में नहीं होनी चाहिए। इसके लिए औपचारिक ड्रेसिंग स्थिति पर्याप्त होगी।
शिकायत की प्रतियां  तीन प्रतियाँ अनिवार्य होती हैं, यदि मामला जिला फोरम या राज्य फोरम में है, और चार सेट प्रतियाँ अगर मामला राष्ट्रीय मंच पर है।
शिकायतकर्ता को न्यायालय में क्या कहा जाएगा  एक शिकायतकर्ता को उपभोक्ता शिकायत (सी.सी.) के रूप में संदर्भित किया जाएगा
परिणाम के बाद  निष्कर्ष में, वादियों को मुफ्त प्रमाणित प्रति दी जाएगी।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें
 

क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट बनाने के मामले में एक वकील कैसे मदद कर सकता है?

हमारे देश में अधिकांश मामले किसी न किसी संपत्ति या वस्तु से जुड़े हुए ही होते हैं, जिसमें से एक व्यक्ति द्वारा किसी अन्य व्यक्ति को अपनी संपत्ति को हस्तांतरित करने के मामले भी आते हैं, जिनमें क्रय या अभिक्रय के मामले भी मिल जाते हैं। जिसके लिए आपको उस वस्तु के लिए क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट बनाने की आवश्यकता होती है। ऐसी स्तिथि में केवल एक प्रलेखन का वकील ही वह व्यक्ति होता है, जिसके माध्यम से एक व्यक्ति द्वारा अपने किसी खास व्यक्ति को या किसी भी अन्य व्यक्ति को किसी भी वस्तु के क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट बनाने जैसा कोई भी छोटा या बड़ा क़ानूनी कार्य बड़ी सरलता से किया जा सकता है, क्योंकि एक क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट में कई प्रकार की औपचारिकता होती हैं, जिनमें कोई भी औपचारिता पूर्ण न होने पर विवाद भी उत्पन्न हो सकता है। ऐसे में एक वकील ही उचित क़ानूनी तरीके से उस संपत्ति के मालिक के अनुसार उसकी संपत्ति की उचित कानूनी रूप से क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट तैयार करवा सकता है। लेकिन इसके लिए यह ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक होता है, कि जिस वकील को हम क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट तैयार करने के लिए नियुक्त करने की सोच रहे हैं, वह अपने क्षेत्र में निपुण वकील हो, और वह पहले भी क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट से जुड़े हुए मामलों से जूझ चुका हो, और वह इस तरह के मामलों से निपटने में पारंगत हो।




 

ये गाइड कानूनी सलाह नहीं हैं, न ही एक वकील के लिए एक विकल्प
ये लेख सामान्य गाइड के रूप में स्वतंत्र रूप से प्रदान किए जाते हैं। हालांकि हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं कि ये मार्गदर्शिका उपयोगी हैं, हम कोई गारंटी नहीं देते हैं कि वे आपकी स्थिति के लिए सटीक या उपयुक्त हैं, या उनके उपयोग के कारण होने वाले किसी नुकसान के लिए कोई ज़िम्मेदारी लेते हैं। पहले अनुभवी कानूनी सलाह के बिना यहां प्रदान की गई जानकारी पर भरोसा न करें। यदि संदेह है, तो कृपया हमेशा एक वकील से परामर्श लें।

अपने विशिष्ट मुद्दे के लिए अनुभवी प्रलेखन वकीलों से कानूनी सलाह प्राप्त करें

संबंधित आलेख




प्रलेखन कानून की जानकारी


क्रय - अभिक्रय एग्रीमेंट कैसे बनाये

बेटे या बेटी को नकद उपहार देने के लिए उपहार विलेख

घर बेचने के लिए एग्रीमेंट कैसे बनाये

साधारण वसीयत बनाने का तरीका