सवाल


Mere Bhai Ka Jym Mein murder Kar Diya Jim sanchalak ka kahna hai ki line Maar Diya Tha Hospital 200 metre ki Duri par tha Magar would Hospital Lekar nahi Gaya Koi primary treatment nahin diya .Jym main line Kaise Aaya. Hum logo ko kuch bataya Nahin Gaya DSP Bina tahkikat lie 302 Dhara 304 Mein supervision Mein convert kar Diya Hamein Rasta dikhaiye.. please

उत्तर (1)


नमस्कार जैसा कि आपने कहा आपके भाई की जिम में मृत्यु हो गई और और जिम संचालक ने बोल करके मामला रफा-दफा कर दिया के लाइन लगने के कारण की मृत्यु हो गई कोई इंक्वायरी दी गई उस डीसीपी ने 302 से मामला बदलकर के 304 में मुकदमा दर्ज करवा दिया लक साफ साफ बच गया इस बात में जैसा कि आप मदद चाहते हैं यहां पर हमें हाईकोर्ट की शरण लेनी चाहिए मुकदमे की दोबारा तफ्तीश शुरू से करानी चाहिए लेकिन यह तभी मुमकिन है जब नया आयो या डीएसपी जो भी इस इंक्वायरी के लिए नियुक्त किया जाए इमानदारी से जांच करें और रिपोर्ट दें उसके लिए आपको एक विश्वसनीय फौजदारी का वकील ना होगा जो आपके भरोसे पर काम करें और आपको न्याय दिला सके

भारत के अनुभवी अपराधिक वकीलों से सलाह पाए

अस्वीकरण: उपर्युक्त सवाल और इसकी प्रतिक्रिया किसी भी तरह से कानूनी राय नहीं है क्योंकि यह LawRato.com पर सवाल पोस्ट करने वाले व्यक्ति द्वारा साझा की गई जानकारी पर आधारित है और LawRato.com में अपराधिक वकीलों में से एक द्वारा जवाब दिया गया है विशिष्ट तथ्यों और विवरणों को संबोधित करें। आप LawRato.com के वकीलों में से किसी एक से प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए अपने तथ्यों और विवरणों के आधार पर अपनी विशिष्ट सवाल पोस्ट कर सकते हैं या अपनी सवाल के विस्तार के लिए अपनी पसंद के वकील के साथ एक विस्तृत परामर्श बुक कर सकते हैं।


इसी तरह के प्रश्न



संबंधित आलेख