सवाल


मेरे दादाजी ने अपने भाई से कुछ जमीन खरीदी और अपने भाई के बेटे के हस्ताक्षर नहीं लिए थे क्योंकि उस समय वह नाबालिग था। यह 50 साल पहले की बात है । लेकिन अब दादाजी के भाई के पुत्र की बेटी संपत्ति मांगती है। यह पैतृक संपत्ति है, लेकिन उस संपत्ति पे 60 साल या उससे अधिक के लिए हमारा कब्जा है। मैंने सुना है कोई ऐसा क़ानून है कि यदि 10 साल से ज्यादा के लिए संपत्ति पर कब्ज़ा करने वाला व्यक्ति उस संपत्ति का मालिक हो जाता है। क्या यह सही है या गलत है?
मैं इसके बारें में जल्द स्पष्ट विवरण चाहता हूँ।

उत्तर


आपके पोस्ट में जो भी उल्लेख किया गया है उसे प्रतिकूल कब्जे की अवधारणा कहा जाता है। हालांकि, कई फैसलों में सुप्रीम कोर्ट ने कही गयी अवधारणा को मन्दित किया है। लेकिन जब उपरोक्त संपत्ति आप के कब्जे में हैं, तो आपके पास कानून के समक्ष एक अच्छा मामला है शेष यह निर्भर करेगा कि वकील इस मामले को कितनी अच्छी तरह संभालता है।

भारत के अनुभवी प्रॉपर्टी वकीलों से सलाह पाए

अस्वीकरण: उपर्युक्त सवाल और इसकी प्रतिक्रिया किसी भी तरह से कानूनी राय नहीं है क्योंकि यह LawRato.com पर सवाल पोस्ट करने वाले व्यक्ति द्वारा साझा की गई जानकारी पर आधारित है और LawRato.com में प्रॉपर्टी वकीलों में से एक द्वारा जवाब दिया गया है विशिष्ट तथ्यों और विवरणों को संबोधित करें। आप LawRato.com के वकीलों में से किसी एक से प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए अपने तथ्यों और विवरणों के आधार पर अपनी विशिष्ट सवाल पोस्ट कर सकते हैं या अपनी सवाल के विस्तार के लिए अपनी पसंद के वकील के साथ एक विस्तृत परामर्श बुक कर सकते हैं।


इसी तरह के प्रश्न



संबंधित आलेख