quesक्या मेरी पत्नी आपसी तलाक के बाद रखरखाव के लिए दावा कर सकती है

मैं और मेरी पत्नी हिंदू विवाह कानून की धारा 13 बी, कि शर्तों पर आपसी तलाक पाने के लिए, अगर मैं गिफ्टेड आइटम या पैसे वापस कर देता हूँ, सहमत हो गए हैं। कानूनी तौर पर पैसे कैसे वापस करे जिससे की वो बाद में इनकार न करे? और मैं भी जानना चाहता हूँ कि क्या कोई कानूनी तरीका है जिससे के मैं तलाक के बाद किसी भी प्रकार का रखरखाव देने से छुटकारा पा सकूँ क्योंकि ये तलाक आपसे सहमति से हो रहा है? मैंने wordpress.com पर एक केस पड़ा था कि, जहां अदालत ने कहा कि हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 125 के तहत आप किसी को रखरखाव के लिए केस करने से नहीं रोक सकते| कृपया मुझे उत्तम सलाह दीजिये|

  • ansअगर आप सौहार्दपूर्ण ढंग से अपने समझौते की शर्तों से सहमत है और उसके बाद सहमत होते है रखरखाव के लिए तो उसके बाद वो समझौते कि शर्तों से बंधी हुई है और वो धारा 25 हिन्दू विवाह अधिनियम या Cr.P.C की धारा 125 के तहत रखरखाव का केस नहीं कर सकती|

    आपके संयुक्त समझौते कि याचिका के तहत, अगर आपकी बीवी पढ़ी लिखी है और आपके आपसी सहमति से तलाक होता है तो आप उसे रखरखाव देने के लिए बाध्य नहीं है|

    यहाँ क्लिक करें और अपने शहर के सबसे अच्छा तलाक और रखरखाव वकील से मिले।

  • अस्वीकरण: ऊपर लिखित सवाल और उसके जवाब किसी भी प्रकार के कानूनी राय नहीं है क्योंकि ये आधारित है सवाल पे जो की LawRato.com पर किसी व्यक्ति ने पूछा है तथा जवाब पे जो की LawRato.com पे तलाक वकीलो ने विशिष्ट तथ्य और जानकारी संबोधित करने के लिए दिया है। आप अपना विशिष्ट सवाल अपने तथ्य और जानकारी के आधार पर जवाब पाने के लिए LawRato.com पर डाल सकते है या अपनी पसंद के वकील के साथ अपनी समस्या के बारे में विस्तार में परामर्श बुक कर सकते है।
भारत के शीर्ष तलाक वकीलो से परामर्श करे

LawRato कैसे काम करता है

जानिए LawRato कैसे काम करता है और कानूनी परामर्श लेना सरल और आसान बनाता है

वकील से बात करें

भारत में शीर्ष वकीलों को आसनी से ढूंढे और उनके साथ निजी सलाह/परामर्श बुक करें

कानूनी शुल्क का अनुमान पाए

अपनी कानूनी आवश्यकता के लिए कई श्रेष्ठ वकीलों से कानूनी शुल्क के प्रस्ताव पाए