पिता की संपत्ति में पुत्र और बेटियों का अधिकार

Read in English
November 12, 2019
एडवोकेट चिकिशा मोहंती द्वारा



दिल्ली उच्च न्यायालय ने अपने हाल के ही एक फैसले में कहा था, कि वह संपत्ति जो किसी व्यक्ति ने खुद की कमाई से अर्जित की है, या खुद बनवायी है, तो उस संपत्ति के ऊपर उस व्यक्ति के बेटे या बेटी का क़ानूनी रूप से कोई अधिकार नहीं होता है। जब तक वह व्यक्ति (संपत्ति का मालिक) जीवित है, तब तक उस संपत्ति के विषय में विचार करने के अधिकार केवल उस व्यक्ति को ही होता है, वह अपनी मर्जी से संपत्ति को बेच भी सकता है, तथा किसी अन्य व्यक्ति को दान भी कर सकता है। केवल इतना ही नहीं वह किसी अन्य व्यक्ति को किराये पर उस संपत्ति का प्रयोग करने के लिए भी दे सकता है। उस व्यक्ति का बेटा या बेटी या कोई अन्य व्यक्ति उसे ऐसा करने से बाध्य नहीं कर सकता है। संपत्ति के मालिक के बेटा या बेटी केवल अपने पिता की दया पर ही उस संपत्ति का प्रयोग कर सकते हैं, पिता अपनी मर्जी से ही अपने बेटा या बेटी को घर से जाने के लिए भी कह सकते हैं। संपत्ति के मालिक के आलावा चाहे कोई भी हो मालिक के जीवित रहने तक उस संपत्ति पर अपने अधिकार का दावा नहीं कर सकते हैं।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें

इसके आलावा किसी व्यक्ति की वह संपत्ति जो उसे अपने पूर्वजों से प्राप्त होती है, उस पैतृक संपत्ति पर उस व्यक्ति के बेटा और बेटी का भी पूर्ण अधिकार होता है, लेकिन वे लोग भी अपने पिता की मृत्यु के बाद ही अपने पिता की पैतृक संपत्ति में अपने अधिकार का दावा कर सकते हैं। पिता की मृत्यु होने से पहले उस संपत्ति पर केवल पिता का ही मालिकाना अधिकार होता है, वह अपनी मर्जी से अपनी पैतृक संपत्ति को किसी अन्य व्यक्ति को बेच भी सकता है, या किसी के नाम पर वसीयत भी कर सकता है। यदि वह पिता अपनी संपत्ति किसी के नाम नहीं करते हैं, और उनकी मृत्यु हो जाती है, तथा मृत्य होने से पहले उन्होंने किसी के नाम पर अपनी संपत्ति की वसीयत भी नहीं की थी, तो ऐसी स्तिथि में उस व्यक्ति के वैध उत्तराधिकारियों के बीच पैतृक संपत्ति का बंटवारा कर दिया जाता है। इसमें लड़का हो या लड़की दोनों को ही संपत्ति में हिस्सेदारी का समान अधिकार होता है।
 

बेटा या बेटी अपने पिता की संपत्ति कैसे प्राप्त कर सकते हैं

संपत्ति का मालिक यानी एक पिता अपने बेटा या बेटी को वह संपत्ति कई प्रकार से दे सकता है, वह दान करके अपनी संपत्ति को अपने बच्चों को दे सकता है, इसके अतिरिक्त एक पिता वसीयत करके भी अपनी संपत्ति अपने बेटा या बेटी को दे सकता है। सामान्यतः किसी भी पैतृक संपत्ति के बंटवारे की बात उस संपत्ति के मालिक की मृत्यु के बाद ही की जाती है, क्योंकि पैतृक संपत्ति के मालिक की मृत्यु के बाद ही उस संपत्ति के नए मालिक बनाने की जरूरत सामने आती है।

एक पैतृक सम्पति के नए मालिक बनाने के लिए कई तरीके हैं, जैसे कि संपत्ति के वर्तमान मालिक जिसकी मृत्यु हो चुकी है, उसकी वसीयत के आधार पर नए मालिक का चुनाव किया जा सकता है, अगर पिता के द्वारा कोई वसीयत नहीं की गयी है, तो उसके पुत्र, पुत्री या उसके उत्तराधिकारी के नाम पर वह पैतृक संपत्ति हस्तांतरित हो जाती है। पैतृक संपत्ति को अपने नाम पर हस्तांतरित करवाने के लिए एक व्यक्ति को उस संपत्ति के क्षेत्राधिकार वाले दीवानी न्यायालय में उत्तराधिकार प्रमाणपत्र के लिए एक आवेदन दर्ज कराना होगा। यदि एक व्यक्ति उस पैतृक संपत्ति को अपने नाम पर हस्तांतरित करने की सभी शर्तों को पूरा करता है, तो केवल ऐसी स्तिथि में वह उस संपत्ति को प्राप्त करने के लिए न्यायालय में आवेदन कर सकता है।

प्रॉपर्टी के वकीलों से बात करें

न्यायालय द्वारा उन सभी लोगों से उस संपत्ति को हस्तांतरित करने के लिए किसी प्रकार की आपत्ति न होने के लिए पूछा जाता है, जो किसी भी प्रकार से उस संपत्ति से जुड़े हैं, या जिनका उस संपत्ति में बराबर का हिस्सा या उत्तराधिकार है। यदि उनमें से किसी भी व्यक्ति को कोई आपत्ति होती है, तो न्यायालय संपत्ति के हस्तांतरण के आवेदन को निरस्त भी कर सकता है। जब किसी व्यक्ति को कोई आपत्ति नहीं होती है, तो न्यायालय उस व्यक्ति को उत्तराधिकार प्रमाण पत्र जारी कर देता है, जिससे की वह संपत्ति उस नए मालिक के नाम पर हस्तांतरित हो जाती है। यदि संपत्ति के वर्तमान मालिक की मृत्यु हो चुकी है, तो ऐसी स्तिथि में आवेदन करने के लिए मृतक मालिक के मृत्यु प्रमाण पत्र का होना बहुत ही आवश्यक है, आवेदन करने के लिए आपको आवेदन के लिए दिए जाने वाले उचित शुल्क का भी भुगतान करना होगा।
 

यदि उत्तराधिकार लेने​ वाली बेटी विवाहित हो

विवाहित वाली बात केवल बेटी के मामले में ही सामने आती है, क्योंकि शादी होने के बाद एक बेटी ही अपने पिता का घर छोड़कर अपने पति के घर जाती है, और वहाँ पर भी उसे अपने पति की संपत्ति में हिस्सा प्राप्त होता है, चाहे वह पैतृक संपत्ति हो या स्वर्जित संपत्ति। किन्तु बेटों के मामले में ऐसा नहीं होता है, क्योंकि शादी होने के बाद बेटे अपने पिता के घर पर ही रहते हैं, और वह केवल अपने पिता की पैतृक संपत्ति में अपने अधिकार का दावा कर सकते हैं।

बर्ष 2005, से पहले हिन्दू उत्तराधिकार कानून में बेटियां सिर्फ हिन्दू अविभाजित परिवार (एच. यू. एफ.) की सदस्य मानी जाती थीं, वे हमवारिस या समान उत्तराधिकारी की श्रेणी में नहीं आती थीं। हमवारिस या समान उत्तराधिकारी से तात्पर्य उन लोगों से होता है, जिनका अपने से पहले की चार पीढ़ियों की अविभाजित संपत्तियों पर अधिकार होता है। हालांकि, बेटी का विवाह हो जाने के बाद उसे हिन्दू अविभाजित परिवार (एच. यू. एफ.) का हिस्सा नहीं माना जाता है।

बर्ष 2005, के हिन्दू उत्तराधिकार अधिनियम, में संशोधन होने के बाद बेटी को हमवारिस यानी समान उत्तराधिकारी माना जाने लगा है। अब बेटी के विवाह से पिता की संपत्ति पर उसके अधिकार में कोई परिवर्तन नहीं आता है। यानी, विवाह होने के बाद भी बेटी का पिता की संपत्ति पर अधिकार रहता है। लेकिन बेटी के इस अधिकार के लिए उसके पिता 9 सितम्बर 2005, को जीवित होने चाहिए, यदि पिता की मृत्यु इस दिन से पहले हो चुकी है, तो बेटी का शादी के बाद अपने पिता की पैतृक संपत्ति पर कोई अधिकार नहीं होगा, क्योंकि यह नया कानून इस दिन ही लागू किया गया था।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें
 

पिता की संपत्ति में अपना अधिकार पाने में एक वकील कैसे मदद कर सकता है

केवल एक वकील ही वह यन्त्र होता है, जिसके माध्यम से पैतृक संपत्ति को अपने नाम में कराने जैसा कोई भी छोटा या बड़ा क़ानूनी कार्य बड़ी सरलता से किया जा सकता है, क्योंकि पैतृक संपत्ति में एक से अधिक हिस्सेदार भी हो सकते हैं, और उनमे संपत्ति के बंटवारे को लेकर कई तरह से विवाद भी हो सकते हैं। ऐसे में एक वकील ही उचित क़ानूनी तरीके से सभी उत्तराधिकारियों में उनके हिस्से के हिसाब से संपत्ति का बंटवारा करवा सकता है। तथा एक वकील ही कम समय में और कम खर्चे में पैतृक संपत्ति का पंजीकरण भी उचित रूप से करवा सकता है। लेकिन इसके लिए यह ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक होता है, कि जिस वकील को हम अपनी पैतृक संपत्ति बंटवारा कराने के लिए नियुक्त करने की




 

ये गाइड कानूनी सलाह नहीं हैं, न ही एक वकील के लिए एक विकल्प
ये लेख सामान्य गाइड के रूप में स्वतंत्र रूप से प्रदान किए जाते हैं। हालांकि हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं कि ये मार्गदर्शिका उपयोगी हैं, हम कोई गारंटी नहीं देते हैं कि वे आपकी स्थिति के लिए सटीक या उपयुक्त हैं, या उनके उपयोग के कारण होने वाले किसी नुकसान के लिए कोई ज़िम्मेदारी लेते हैं। पहले अनुभवी कानूनी सलाह के बिना यहां प्रदान की गई जानकारी पर भरोसा न करें। यदि संदेह है, तो कृपया हमेशा एक वकील से परामर्श लें।

अपने विशिष्ट मुद्दे के लिए अनुभवी प्रॉपर्टी वकीलों से कानूनी सलाह प्राप्त करें

संबंधित आलेख




प्रॉपर्टी कानून की जानकारी


भारत में संपत्ति विभाजन के कानून

​किसी संपत्ति के दाखिल व ख़ारिज के नियम

किरायेदार को अपने घर से कैसे बेदखल करें

संपत्ति में विधवा का अधिकार