किरायेदार को अपने घर से कैसे बेदखल करें


March 07, 2020
एडवोकेट चिकिशा मोहंती द्वारा



भारत में अधिकांश लोगों के लिए किराये की आय एक बहुत अच्छा श्रोत है। हालांकि, आय का एक आसान श्रोत बहुत आसानी से गृहस्वामी के लिए एक बहुत ही मुश्किल समस्या में बदल सकता है, खासकर उन मामलों में जहां किरायेदार बदमाश बन जाते हैं, और नियमों का पालन करने से इनकार कर देते हैं। इसके अलावा, एक किरायेदार को अपने घर से बेदखल करने की लंबी प्रक्रिया मकान मालिक को और भी बोझिल बना देती है। फिर भी भारत में मौजूदा कानून मकान मालिक के लिए किरायेदार को वास्तविक कारणों से बेदखल करना संभव बनाते हैं।

एक किरायेदार को बेदखल करने के लिए आधार के साथ पूरी प्रक्रिया निम्नलिखित है।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें
 

किरायेदार को घर से बेदखल करने के आधार तथ्य:

अधिकांश राज्य के कानून एक किरायेदार को बेदखल करने के निम्नलिखित कारण बताते हैं

  1. किराए के देय होने के बाद 15 दिनों से अधिक की अवधि के लिए सहमत किराए की राशि का भुगतान न करना, और इस तरह का गैर - भुगतान विलफुल था

  2. मालिक की लिखित सहमति के बिना किसी अन्य व्यक्ति को मकान किराये पर देना

  3. किराये के समझौते में उल्लिखित मकान की सीमाओं का उपयोग उल्लिखित उद्देश्यों के आलावा और किसी उद्देश्य के लिए करना

  4. कोई ऐसा कार्य करना जिससे संपत्ति की कीमत में कमी होती हो

  5. ऐसे किसी भी उद्देश्य के लिए संपत्ति का उपयोग जो कानून द्वारा अवैध या अनैतिक माना जाता है

  6. पड़ोसियों द्वारा लिखित रूप में पुष्टि करना, कि किरायेदार का रहना उनके लिए आपत्तिजनक सिद्ध हो रहा है

  7. एक अलग राज्य या क्षेत्र में चार महीने से अधिक समय तक अन्य संपत्ति का कब्ज़ा

  8. जमींदार की उपाधि से इनकार करना
     

उपर्युक्त कारणों के अलावा, मकान मालिक निम्नलिखित कारणों के लिए भी किरायेदार की बेदखली कर सकता है:

  1. यदि मकान मालिक को अपने स्वयं के व्यवसाय के लिए या उसके परिवार के सदस्यों के कब्जे के लिए परिसर की आवश्यकता होती है।

  2. यदि परिसर की सफाई या फिर कुछ मरम्मत करने के लिए संपत्ति की एक वास्तविक आवश्यकता है। मरम्मत होने पर किरायेदार को परिसर में प्रवेश करने का अधिकार होगा।

  3. दूसरे भवन के निर्माण के लिए परिसर को ध्वस्त किया जाना है।
     

बेदखल करने की प्रक्रिया:

किरायेदारों के लिए कानून किरायेदारों के समर्थक होते हैं, और आमतौर पर किरायेदार के वास्तविक निष्कासन के लिए काफी लंबा समय भी लग सकता है। निम्नलिखित बिंदुओं का पालन करके आप किसी किरायेदार को अपनी संपत्ति से बेदखल कर सकते हैं।

प्रॉपर्टी के वकीलों से बात करें
 

एक वकील की नियुक्ति करके

एक अच्छे वकील से परामर्श करने से मकान मालिक को निष्कासन की पूरी प्रक्रिया को अधिक स्पष्टता के साथ समझने में मदद मिलेगी। एक वकील मकान मालिक का उचित मार्गदर्शन करने में भी सक्षम होगा।
 

बेदखल के लिए फाइल करना और सूचना देना

ज्यादातर मामलों में किरायेदार के निष्कासन के लिए एक उपयुक्त सिविल न्यायालय में मुकदमा दायर करना होगा। मुकदमा दर्ज होने के बाद किरायेदार को न्यायालय द्वारा अधिसूचित किया जाएगा।
 

बेदखल करने के परिणाम

न्यायालय से नोटिस प्राप्त करने के बाद किरायेदार आमतौर पर बिना किसी समस्या के अपने दम पर संपत्ति छोड़ देगा। प्रक्रिया को पूरा करने के लिए मकान मालिक किरायेदार को नोटिस भेजेगा, जिसके बाद मकान मालिक को न्यायालय में अपने मामले की सुनवाई के लिए इंतजार करना होगा। मकान मालिक द्वारा प्रदान किए गए सबूतों और किरायेदार द्वारा प्रस्तुत किए गए तर्कों के आधार पर ही किरायेदार को न्यायालय से निष्कासन प्रदान किया जा सकता है।
 

बेदखल करने की लम्बी प्रक्रिया से बचें

बाद के चरण में निष्कासन की एक लंबी और समस्याग्रस्त प्रक्रिया से बचने का सबसे आम तरीका यह है कि 11 महीने की अवधि के लिए किराये का एग्रीमेंट बनाया जाये जिसका बाद में नवीकरण भी किया जा सके। क्योंकि एक वर्ष से कम समय के लिए किराये का एग्रीमेंट बनाने से मकान मालिक बेदखल करने की लम्बी और बोझिल प्रक्रिया से बच सकता है।

अपनी कानूनी समस्या के लिए वकील से बात करें
 

ऐसे मामलों में एक वकील आपकी कैसे मदद कर सकता है

केवल एक वकील ही ऐसा व्यक्ति होता है, जो प्रत्येक क़ानूनी समस्या में आपकी मदद कर सकता है, क्योंकि केवल वह ही एक ऐसा व्यक्ति होता है, जिसने कानून का उचित रूप से अध्ययन किया होता है, और एक वकील को सभी तरीके के क़ानूनी दाव - पेच के बारे में उचित जानकारी होती है। अपनी संपत्ति पर अपना पूर्ण अधिकार प्राप्त करने का मामला काफी बड़ा हो सकता है, क्योंकि वह किरायेदार जिसने आपकी संपत्ति पर कब्जा किया होता है उसके पास भी उस सम्पत्ति को अपनी संपत्ति बनाने के लिए काफी झूठे सबूत और गवाह हो सकते हैं। तो ऐसे मामलों में एक प्रॉपर्टी वकील ही ऐसा व्यक्ति हो सकता है, जो आपको न्याय दिलाने के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकता है, और यदि वह वकील अपने क्षेत्र में पारंगत है, तो वह कम समय और पैसों के खर्चे में आपको उचित रूप से न्याय दिला सकता है।




 

ये गाइड कानूनी सलाह नहीं हैं, न ही एक वकील के लिए एक विकल्प
ये लेख सामान्य गाइड के रूप में स्वतंत्र रूप से प्रदान किए जाते हैं। हालांकि हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं कि ये मार्गदर्शिका उपयोगी हैं, हम कोई गारंटी नहीं देते हैं कि वे आपकी स्थिति के लिए सटीक या उपयुक्त हैं, या उनके उपयोग के कारण होने वाले किसी नुकसान के लिए कोई ज़िम्मेदारी लेते हैं। पहले अनुभवी कानूनी सलाह के बिना यहां प्रदान की गई जानकारी पर भरोसा न करें। यदि संदेह है, तो कृपया हमेशा एक वकील से परामर्श लें।

अपने विशिष्ट मुद्दे के लिए अनुभवी प्रॉपर्टी वकीलों से कानूनी सलाह प्राप्त करें

संबंधित आलेख




प्रॉपर्टी कानून की जानकारी


भारत में संपत्ति विभाजन के कानून

​किसी संपत्ति के दाखिल व ख़ारिज के नियम

किरायेदार को अपने घर से कैसे बेदखल करें

संपत्ति में विधवा का अधिकार